SEO क्या है (What is SEO in hindi) tutorial

SEO क्या है

SEO kya hai (SEO क्या है)

SEO क्या है – SEO को सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (Search Engine Optimization) के नाम से भी जाना जाता है और सर्च इंजन ऑप्टिमाजिटेशन ( Search Engine Optimization ) को ही शार्ट फॉर्म में SEO बोला जाता है

SEO का इस्तेमाल वेबसाइट में ऑर्गेनिक ट्रैफिक (organic traffic) बढ़ाने के लिए किया जाता है

अक्सर बहुत से लोग गूगल में सर्च मारते है SEO क्या है (What is SEO in hindi) tutorial , SEO कैसे करते है या आपने SEO शब्द तो सुना ही होगा कभी आपने दोस्तों या कभी आपने ऑफिस में अगर आप भी SEO के बारे में जानना चाहते है की SEO कैसे करते है तो इस आर्टिकल में आपको SEO से जुड़े सारे सवाल समाप्त हो जाएंगे, क्योकि इस आर्टिकल में हम SEO के बात करते हुए आगे बढ़ेंगे |

SEO एक प्रोसेस है जहा पर हम इंटरनेट (Internet) के माध्यम से अपनी नॉलेज को ज्यादा से ज्यादा लोगो तक पंहुचा सकते है

मतलब अगर मै कंटेंट राइटर (content writer) हु, और मै अपने आर्टिकल को लोगो तक पहुंचना चाहता हु तो मुझे एक माध्यम की जरूरत होगी जिससे की में लोगो को अपना कंटेंट (content) और क्रिएटिविटी (creativity) या अपनी बात रख सकूँ
वह माध्यम (medium) कुछ भी हो सकता है जैसे की ऑनलाइन, बुक्स, ऑडियो , वीडियो या और कुछ भी माध्यम (medium) हो सकता है
लेकिन अगर मै ऑनलाइन (online) के बात करू तो मुझे अपने आर्टिकल जो ज्यादा लोगो तक पहुंचने के लिए अपने आर्टिकल को सर्च इंजन में रैंक करना होगा (सर्च इंजन मतलब गूगल, बिंग, याहू सर्च आदि ) जिससे की ज्यादा लोग उसे पड़े और देखे लेकिन यह काम आसान नहीं है क्योकि दुनिया में बहुत से कंटेंट राइटर होंगे और वो भी अपने कंटेंट को डिजिटल या इंटरनेट के माध्यम से लोगो तक पंहुचा रहे होंगे तो यही पे SEO का स्तेमाल किया जाता है अपने आर्टिकल को अपने कॉम्पिटिटर (competitor) से सर्च इंजन में ऊपर रैंक या लाने के लिए किया जाता है और यही SEO का स्तेमाल है या कहे की इसीलिए SEO शब्द बना है या सीधे तौर पर कहे की अपने आर्टिकल को अपने कॉम्पिटिटर से ऊपर लेके या रैंक करना SEO कहलाता है

अगर आप किसी भी कीवर्ड को सर्च करके मेरे वेबसाइट पे पहुंचे है तो ये SEO की हेल्प से हुआ है कही ना कही मैने इस पोस्ट का SEO किया होगा जिससे की आप यहाँ सर्च इंजन या किसी और माधय्म से मेरे आर्टिकल तक पहुंच पाए है

अभी तक हम जान चुके है की SEO क्या लेकिन अगर हम बात करे पुरे SEO के बारे में तो ये SEO सब्द अपने में बहुत कुछ समेटे हुये है अब हम जानेंगे के SEO के प्रकार और कैसे करते है या करने के तरीके |

सबसे पहले हम बात करेंगे SEO के टाइप या प्रकार

SEO के प्रकार (Type of SEO in hindi)

इस सेक्शन में हम बात करेंगे SEO के टाइप या प्रकार (types of seo in hindi)

SEO दो प्रकार का होता है पहला ऑनपेज (On page) और दूसरा ऑफ़पेज (Off page)

ऑनपेज SEO क्या है (what is On page SEO in hindi)

जहा तक आप सेक्शन के नाम से ही समझ चुके होंगे की ऑनपेज क्या होता है
ऑनपेज (on page) SEO किसी भी वेबसाइट के पेज पर किया जाता है मतलब किसी भी वेबसाइट के पुरे डिज़ाइन से लेकर वेबसाइट में डिटेल्स तक

ऑनपेज (on page) SEO में वेबसाइट की पेज स्पीड (page speed, loading time), कंटेंट (content), इमेज (image) , टाइटल (title) , मेटा डिस्क्रिप्शन (meta description), कीवर्ड (keyword) का एक पूरा सेटअप है जिसके बिहाफ़ में ऑनपेज on page SEO किया किया जाता है ऑन-पेज SEO किसी भी वेबसाइट के हटम्ल (html) कोड के ऑप्टिमाइज़ करना होता है

और किसी भी आर्टिकल या पोस्ट को रैंक करने के लिए ऑनपेज SEO सबसे महतव्पूर्ण होता है

अगर आप टाइटल (Title) और मेटा डिस्क्रिप्शन (Meta description) नहीं जानते तो आप नीचे दी गई इमेज को देख सकते है

Title and image description in search engine
Title and meta description

ऑन-पेज (On page) SEO के टैग और इस्तेमाल

टाइटल (Title in hindi)

टाइटल किसी भी पोस्ट या आर्टिकल का नाम होता है जो सर्च इंजन में यूजर को कीवर्ड सर्च करते समय देखिए देता है जैसे की आप ऊपर इमेज देख सकते है अगर आप आर्टिकल लिख रहे है तो अपना टाइटल भी आर्टिकल से मिलता जुलता रखे और हो सके तो unique रखे जो आपके पोस्ट से मेल खाता हो

मेटा डिस्क्रिप्शन (Meta description in hindi)

मेटा डिस्क्रिप्शन (Meta description) किसी भी आर्टिकल का छोटा सा संक्षेप होता है जिसमे आर्टिकल के बारे में बताया जाता है जिससे की यूजर को समझ में आ सके के आर्टिकल किस बारे में है

मेटा डिस्क्रिप्शन केवल सर्च इंजन में कुछ भी सर्च करते समय दिखाई देता है आप इसको पोस्ट में नहीं देख सकते हो ये वेबसाइट के हैडर/ हेड में होता है इसे केवल सर्च इंजन के क्रॉलर ही रीड करते है

हेडिंग टैग (Heading tags in hindi)

हैडिंग टैग (heading tags) किसी भी आर्टिकल के बारे में सर्च इंजन को बताते है की आर्टिकल किस बारे में लिखा है आपने आर्टिकल को अच्छे से बताने के लिए आर्टिकल में हैडिंग टैग के स्तेमाल करे जिससे की आर्टिकल आसानी समझ आ सके और SEO पर्पस (Purpose) से हैडिंग टैग बहुत ही इफेक्टिव (Effective) होते है इसलिए कोशिश करें के मिनिमम 4-8 हैडिंग टैग अपने पोस्ट में स्तेमाल करे

Note: H1 टैग का इस्तेमाल पेज में एक ही बार करें

इमेज और ऑल्ट टैग (Image or alt tag in hindi)

इमेजेस (Images) कुछ नहीं बोलते हुए भी बहुत कुछ कहते है इसलिए अपने पोस्ट में इमेज का स्तेमाल करे जिससे की यूजर को समझ में आ सके की आर्टिकल किस बारे में लिखा है

अगर आप पोस्ट में इमेज इस्तेमाल कर रहे है तो कुछ खास बातो का ध्यान जरूर रखे पोस्ट में इमेज टैग का स्तेमाल करते समय ऑल्ट टैग (Alt) का स्तेमाल जरूर करे जिससे की सर्च इंजन को समझ में आ सके के आपने जो इमेज स्तेमाल के हुई है वो किस बारे में है

वेबसाइट पेज स्पीड (Website page speed in hindi)

अगर आप अपनी वेबसाइट का SEO कर रहे है तो वेबसाइट के स्पीड या लोडिंग टाइम (website loading time) का मुख्य ध्यान दे क्योकि वेबसाइट की रैंकिंग वेबसाइट के लोडिंग स्पीड पर निर्भर करता है तो इसलिए अपने वेबसाइट के लोडिंग टाइम को इम्प्रूव (improve) करना होगा

आपने वेबसाइट की लोडिंग स्पीड चेक करने के लिए आप गूगल वेबसाइट स्पीड टेस्ट टूल का स्तेमाल कर सकते हो

इंटरनल लिंकिंग (What is Internal linking in hindi)

अगर हम इंटरनल लिंकिंग की बात करे तो किसी भी वेबसाइट में इंटरनल लिंकिंग बहुत ही जरुरी होती है उससे आपके यूजर को आर्टिकल अच्छे से समझने में मदद मिलती है
इंटरनल लिंकिंग से हम किसी भी आर्टिकल या पोस्ट के किसी भी बिंदु से यूजर को दूसरे पेज में भेज देते है
मतलब अगर मेने आर्टिकल लिखा है ब्लॉगिन के ऊपर और आर्टिकल के बीच में कही पर SEO वर्ड आ गया तो में अपने उसी आर्टिकल में SEO के बारे में नहीं बता सकता हु इसलिए अगर मेने को SEO पर आर्टिकल लिखा होगा तो में उस SEO वर्ड पर लिंक लगा दूगा उस आर्टिकल का जहा पर मैने SEO के बारे में पूरा आर्टिकल लिखा होगा

इंटरनल लिंकिंग से वेबसाइट का पेज व्यू (view) और वेबसाइट पर यूजर ज्यादा टाइम स्पेंड करता है जो आपके वेबसाइट के लिए एक प्लस पॉइंट (plus point) होगा, और सर्च इंजन के नजरो में आपकी वेबसाइट अच्छी होगी और आपकी पेज की अथॉरिटी और डोमिन अथॉरिटी भी बढ़ेगी इसलिए हमे इंटरनल लिंकिंग का स्तेमाल करना चाहिए

साइट मैप (What is sitemap in hindi)

साइट मैप एक तरह के XML फाइल होती है जो सर्च इंजन को वेबसाइट को इंडेक्स्ड करने में हेल्प करते है
साइट मैप में पुरे वेबसाइट के पेज के यूआरएल होते है जो सर्च इंजन के क्रॉलर के द्वारा पड़ा जाता है उसके बाद सर्च इंजन (गूगल, बिंग, याहू) के क्रॉलर वेबसाइट के साइट के सभी पेज में जाकर पूरी वेबसाइट को क्रॉल करते है और नई पोस्ट और अपडेटेड को अपने डेटाबेस में इंडेक्स्ड करते है

ऑफ-पेज SEO क्या है (What is off page seo in hindi)

अगर हम ऑफ पेज (Off page) SEO की बाते करे तो इसमें वेबसाइट के बैकलिंक बनाना वेबसाइट को सोशल प्रोफाइल बना के पोस्ट को शेयर करना और भी कई टेक्निक (method) स्तेमाल की जाती है

ऑफ-पेज SEO के टिप्स (Off page seo tips in hindi)

बैकलिंक, लिंक बिल्डिंग (what is backlink in hindi)

अपने वेबसाइट के लिंक (Url, link) को किसी अन्य वेबसाइट में सबमिट करना लिंक बिल्डिंग (link building) कहा जाता है जो SEO के लिए बहुत स्तेमाल किया जाता है और लिंक बिल्डिंग से ही वेबसाइट की अथॉरिटी (authority) इम्प्रूव होती है इसलिए आप किसी भी वेबसाइट में गेस्ट पोस्ट कर सकते है और गेस्ट पोस्ट में अपने आर्टिकल को लिंक कर सकते है जिससे आपके पेज और वेबसाइट की अथॉरिटी इन्क्रीज (authority increase) होगी

सोशल पेज (Social page in hindi)

आप अपने वेबसाइट के लिए आपने एक सोशल पेज क्रिएट (create) कर सकते है क्योकि आज कल कर कोई सोशल नेटवर्क का स्तेमाल करता है अगर आप अपना पेज बनाते है तो आपको आपने आर्टिकल को आपने सब्सक्राइबर तक पहुंचने में मदद मिलिगे और आपने साथ अन्य लोगो को भी जोड़ सकते है

ईमेल सब्सक्रिप्शन (Email subscription in hindi)

ईमेल के द्वारा अपने यूजर को नई पोस्ट या अपडेट का नोटिफिकेशन देना या वेबसाइट से यूजर की ईमेल कलेक्ट करना ईमेल सब्सक्रिप्शन कहलाता है ईमेल सब्सक्रिप्शन भी एक अच्छा तरीका है अपने यूजर्स से कनेक्ट रहने का इसलिए आप अपने यूजर के ईमेल कलेक्ट कर सकते है और आने वाले सभी अपडेट के बारे में उन्हें बता सकते हो इसके लिए आप आरएसएस फीड (rss feed) का स्तेमाल कर सकते है | rss feed का स्तेमाल न्यू अपडेट और पोस्ट के लिए किया जाता

गेस्ट पोस्ट (what is guest post in hindi)

इस सेक्शन में हम बात करेंगे की पोस्ट पोस्ट क्या है अगर हम अपने किसी वेबसाइट पर किसी दूसरे कंटेंट राइटर को पोस्ट पब्लिश करने की पेर्मिशन देते है और वो कंटेंट राइटर आपके वेबसाइट पर पोस्ट करता है तो इसे गेस्ट पोस्ट कहते है

अगर हम सिंपल भाषा में कहे तो आपने किसी भी आर्टिकल को किसी दूसरे वेबसाइट में पब्लिश करना गेस्ट पोस्ट कहलाता है

अब आप सोच रहे होंगे की पोस्ट पोस्ट के क्या फायदे है क्यों करते है गेस्ट पोस्ट हम अपनी वेबसाइट के बैकलिंक बढ़ाने के लिए और ट्रैफिक बढ़ाने के लिए या अगर आपके पास आर्टिकल पब्लिश करेने का कोई माधयम नहीं तो उस केस में कर सकते है

ये मेरे पहला आर्टिकल है अगर इसमें कोई गलती हुई है तो आप अपना फीडबैक दे सकते है Contact me

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *