वर्डप्रेस क्या है और कैसे इस्तेमाल करे (What is WordPress in hindi)

वर्डप्रेस क्या है कैसे स्तेमाल करते है

वर्डप्रेस क्या है (What is WordPress in hindi)

वर्डप्रेस क्या है – वर्डप्रेस को कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम (content management system) या CMS के नाम से भी जाना है जो May 27, 2003 को Matt Mullenweg और Mike Little द्वारा बनाया गया था |

वर्डप्रेस PHP और MySQL के हेल्प (help) से बनाया गया है |

PHP एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज (Programming language) है जो वेब डेवलपमेंट के लिए इस्तेमाल होती है जबकि MySQL को स्ट्रक्चर क्वेरी लैंग्वेज (Structured Query Language) के नाम से जाना जाता है जो प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के साथ मिलकर डेटाबेस के ऊपर काम करती है मतलब डेटाबेस मैनेज करने में हेल्प करता है |

अगर आप भी अपनी वेबसाइट वर्डप्रेस जैसे प्लेटफॉर्म में बनाना चाहते है तो ये आपके लिए अच्छी बात है की वर्डप्रेस ओपन सोर्स (open source) है मतलब आपको वर्डप्रेस स्तेमाल करने के लिए किसी भी तरह की पेमेंट (payment) नहीं करनी है आप इसे फ्री (free) में स्तेमाल कर सकते है और ब्लॉगिंग के लिए वर्डप्रेस एक बहुत ही पावरफुल प्लेटफार्म (powerful platform) है

इस आर्टिकल में हम जानेंगे की वर्डप्रेस कैसे इनस्टॉल करते है (How to install WordPress in hindi) और वर्डप्रेस से जुडी सभी बेसिक टॉपिक (basic topic) को कवर (cover) करने के कोशिस करेंगे जैसे की वर्डप्रेस क्या है (What is WordPress in hindi), वर्डप्रेस क्या होता है, वर्डप्रेस प्लगइन क्या है और स्तेमाल (What is WordPress plugin and use in hindi).

CMS क्या है (What is CMS in hindi)

CMS क्या है – CMS को कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम (content management system) के नाम से भी जाना जाता है मतलब आप अपने वेबसाइट का पूरा डिजाइन सेट कर सकते है इसके मदद से बिना किसी कोडिंग स्किल्स (coding skills) के, अगर आपको कोडिंग नहीं आती है आप फिर भी CMS प्लेटफॉर्म के मदद से आपने मनपसंद डिज़ाइन (यूजर इंटरफेस) तय या बना सकते है वो भी कुछ मिनटों में |

वर्डप्रेस कैसे काम करता है (How does wordpress work in hindi)

वर्डप्रेस कैसे काम करता है – जैसे की हम पहले बता चुके है वर्डप्रेस एक ओपन सोर्स प्लेटफॉर्म है जिसमे बिना किसी फीस के आप स्तेमाल कर सकते हो अगर आप भी ब्लॉगिंग या अपनी वेबसाइट बनाना चाहते है तो वर्डप्रेस आपके लिए एक अच्छा ऑप्शन हो सकता है जो आपको बहुत कम समय में अच्छा रिजल्ट दे सकता है क्योकि 60 मिलियन वेबसाइट अभी वर्डप्रेस का स्तेमाल कर रहे है इंटरनेट का लगभग 33.6%.

सबसे बड़ी बात अगर आपके पास कोई कोडिंग स्किल्स नहीं है तो आप फिर भी वर्डप्रेस का स्तेमाल कर सकते हो और वेबसाइट क्रिएट कर सकते हो और यही एक तरह से वर्डप्रेस की पावर और जिसके वजह से वर्डप्रेस इतना पॉपुलर या लोकप्रिय हुआ है

वर्डप्रेस सिस्टम में कोडिंग पहले से लिखी हुई जो लोग इसका स्तेमाल करते है उन्हे केवल फ्रॉन्टेन्ट दिखता है बाकी काम जो एक डेवलपर का होता है वह काम वर्डप्रेस में पहले से किया हुआ है बस आपको वर्डप्रेस इनस्टॉल करके थीम सेलेक्ट करनी होती है जिसमे डिजाइनिंग का काम हुआ होता है और आप एक बार थीम को इनस्टॉल करने के बाद रिडिजाइन भी कर सकते है

How does WP work in Hindi
How does WP work in Hindi

वर्डप्रेस इंस्टॉलेशन के बाद आपको आपको जो भी जरूरत है आप वर्डप्रेस प्लगइन का स्तेमाल कर सकते है
जैसे की अगर मुझे वर्डप्रेस इनस्टॉल करने के बाद आपने वर्डप्रेस वेबसाइट का SEO करना है तो उसके लिए मै प्लगइन इनस्टॉल कर सकता हु और अगर मुझे आपने वेबसाइट में प्रोडक्ट बेचने है तो उसके लिए भी में प्लगइन स्तेमाल कर सकता हु मतलब हर किसी चीज के लिए में प्लगिंग स्तेमाल कर सकता हु और यह कहना गलत नहीं होगा की पूरा वर्डप्रेस प्लगइन के इंस्टॉलेशन से ही चलता है आगे सेक्शन में हम जानने की वर्डप्रेस कैसे इनस्टॉल करते है पूरा इंस्टालेशन स्टेप्स step by step.

वर्डप्रेस का प्रकार (Type of WordPress in hindi)

वर्डप्रेस दो प्रकार के होते है पहला wordpress.com और दूसरा wordpress.org

wordpress.com और wordpress.org में मुख्य डिफरेंट ये है की आप wordpress.org को पूरा कस्टमाइज कर सकते है लेकिन वहीं दूसरी ओर wordpress.com को नहीं कर सकते है अगर आप वर्डप्रेस पर अपनी वेबसाइट बनाना चाहते है या ब्लॉग स्टार्ट करना चाहते है तो आप का स्तेमाल कर सकते हो अगर आपके पास पैसे नहीं है और आप भी किसी पैसे के ब्लॉगिंग वर्डप्रेस के साथ स्टार्ट करना चाहते है तो wordpress.com का स्तेमाल कर सकते है

आइये नीचे दिए गए अंतर से समझने की कोशिश करते है

WordPress.com और wordpress.org में अंतर (Difference between wordpress.com or wordpress.org in hindi)

Difference between wordpress.com or  wordpress.org in hindi
Difference between wordpress.com or wordpress.org in hindi

WordPress.com और wordpress.org दोनों ही वर्डप्रेस के भाग है लेकिन दोनों का काम करने का तरीका अलग अलग है

WordPress.com क्या है (WordPress.com in hindi)

WordPress.com वर्डप्रेस का ही एक पैनल है जहां पर आप आपने ब्लॉग स्टार्ट कर सकते है बिना कोई पैसे खर्च किये
WordPress.com में वर्डप्रेस आपको अपनी वेबसाइट फ्री में होस्ट करने का ऑप्शन देता है जहा पर आप अपनी वेबसाइट को सब्डोमैन पर चला सकते है और यही इसके फ्री होना का सबसे बड़ा कारण है मतलब आप वेबसाइट तो चला रहे हो लेकिन आपको कोई पैसे नहीं देने है और साथ ही wordpress.com में आप अपने वेबसाइट को अच्छी तरह से कस्टमाइज नहीं कर सकते हो
यहाँ पर सब्डोमैन का मतलब जैसे के मेरी वेबसाइट है mylesson.in और मै अपने वेबसाइट पर सब्डोमैन बनाना चाहता हु ब्लॉग (blog) के लिए तो मेरा सब्डोमैन कुछ इस तरह होगा |

Main doamin : mylesson.in

Sub domain example : blog.mylesson.in

sub domain example
Sub domain example

इसी तरह अगर आप वर्डप्रेस का स्तेमाल करते हो तो आपका डोमेन कुछ ऐसा होगा
Example : blog.wordpress.com

wordpress.com भी ब्लॉगर की तरह है अगर आप ब्लॉगर के बारे में नहीं जानते है तो ब्लॉगर वाले आर्टिकल में विजिट कर सकते है : ब्लॉगर क्या है

आप wordpress.com में एक्स्ट्रा प्लगइन इस्तेमाल नहीं कर सकते हो जबकि दूसरी तरफ wordpress.org में आप अनलिमिटेड प्लगइन स्तेमाल कर सकते हो

wordpress.com को इस्तेमाल करने के लिए आपको बस wordpress.com में के वेबसाइट में जाकर रजिस्टर करना होता है उसके बाद आप को स्तेमाल कर सकते है लेकिन wordpress.org में ऐसा नहीं है

WordPress.org क्या है (WordPress.org in hindi)

अगर हम wordpress.org की बात करे तो wordpress.org का स्तेमाल करने के लिए आपको एक होस्टिंग की जरुरत पड़ेगी और जिसके लिए आपको पैसे देने पड़ेगी और दूसरा आपको डोमिन खरीदना होगा मतलब अगर wordpress.org आप का स्तेमाल करना चाहते है तो आपको पैसे खर्च करने होंगे और आप अपना मन चाहा डोमिन नाम खरीद सकते है

wordpress.org में आप वेबसाइट को पूरी तरह से कस्टमाइज कर सकते हो मतलब आप अपने वेबसाइट को पूरी तरह से डिज़ाइन कर सकते हो और मन चाहा थीम स्तेमाल कर सकते हो जबकि wordpress.com में आप कुछ लिमिटेड थीम ही स्तेमाल कर सकते हो आपको पूरी परमिशन नहीं होती है इसलिए wordpress.org, wordpress.com से बेहतर है

अगर आपको कोडिंग की जानकारी है और आप अपने कोड में कुछ चेंज करना चाहते है तो wordpress.org में आसानी से कर सकते हो जबकि wordpress.com में आप नहीं कर सकते है

wordpress.org को इस्तेमाल करने के लिए आपको वेबसाइट को होस्ट करना होगा जो आसान काम नहीं है अगर आपको होस्टिंग सेटअप के बारे में पता नहीं है तो |

वर्डप्रेस इस्तेमाल करने के फायदे (Benefits of using wordpress in hindi)

इस सेक्शन में हम जानेंगे की वर्डप्रेस इस्तेमाल करने के फायदे

1. फ्री एडमिन और वेबसाइट (Free admin and website)

जैसे की इस आर्टिकल में पहले ही बता चुका हूँ वर्डप्रेस एक open source है इसके लिए आपको को फीस नहीं देनी पड़ती वही दूसरी और जब वर्डप्रेस नहीं था तो अपनी वेबसाइट बनवाने के लिए मिनिमम (minimum) 10-2० हजार रुपए (thousand rupees) लगते थे लेकिन वही काम वर्डप्रेस की मदद से फ्री में और बहुत काम समय में तैयार हो जाता है

2. कभी भी अपडेट करें (Update anytime)

अगर आपकी वेबसाइट वर्डप्रेस जैसे प्लेटफार्म में है तो आप अपनी वेबसाइट को कभी भी अपडेट और रिडिजाइन कर सकते है जिसके के लिए आपको कोई डिज़ाइनर (designer) और डेवलपर (developer) को हायर (hire) करने की जरुरत नहीं है आप खुद अपनी वेबसाइट का डिज़ाइन सेट और टेस्ट कर सकते हो

3. रेस्पॉन्सिव डिजाइनिंग (Responsive designing)

अगर आप वर्डप्रेस का इस्तेमाल कर रहे है तो आपको वेबसाइट के रेस्पॉन्सिव (responsive) की कोई चिंता नहीं है क्योकि वर्डप्रेस के ऑलमोस्ट (almost) सभी थीम (theme) रेस्पॉन्सिव होते है लेकिन वही अगर आप वर्डप्रेस का स्तेमाल नहीं कर रहे है तो आपको रेस्पॉन्सिव वेबसाइट बनाने के लिए काफी समय लग सकता है
रेस्पॉन्सिव थीम का मतलब है अगर आप वेबसाइट को डेस्कटॉप पर ओपन करे या मोबाइल पर वेबसाइट अपने आप कस्टमाइज हो जाएगी जबकि अगर आपकी वेबसाइट रेस्पॉन्सिव नहीं है तो आप आपने वेबसाइट में विज़िटर नहीं बड़ा सकते है क्योकि आपके यूजर को वेबसाइट रीड (read / analyze) करने में दिक्कत आ सकती है तो इसलिए हमेशा रेस्पॉन्सिव वेबसाइट का ही स्तेमाल करे अच्छे आउटपुट के लिए |
Note : अगर आपकी वेबसाइट रेस्पॉन्सिव नहीं है तो आप गूगल में रैंक नहीं कर सकते है जैसे के नीचे इमेज में देख सकते है

Responsive designing
Responsive designing

4. साइट की सुरक्षा (Site security)

वर्डप्रेस के इस्तेमाल से आप अपनी वेबसाइट की सिक्योरिटी बड़ा सकते हो जिसके लिए आपको प्लगइन का स्तेमाल करना होगा जो बहुत ही आसान है वही दूसरी और अगर आप मैन्युअल (Manually) वेबसाइट बनाते है तो आपको अपनी वेबसाइट के सिक्योरिटी को ध्यान में रखते हुए काम करना होगा जो अगर कभी गलती से भी छूट गया तो आपको काफी नुकसान हो सकता है वेबसाइट के हैक होने के संभावना (Chances) हो सकती है

5. सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (Search engine optimization)

अगर आप वर्डप्रेस का स्तेमाल करते है तो आपको वेबसाइट के इंडेक्सिंग और रैंकिंग के ऊपर जायदा ध्यान नहीं देना होता है क्योकि वर्डप्रेस को डिज़ाइन और डेवलप कुछ इस तरह किया हुआ है की आपको अगर SEO, मेटा टैग्स (meta tags) और डाटा स्ट्रक्चर (data structure) के बारे में पता नहीं है तो आप ये आपने आप सब कुछ मैनेज (manage) कर लेता है और कुछ प्लगइन के हेल्प (help) से |

6. वेबसाइट लोडिंग स्पीड (Website loading speed)

कुछ प्लगइन के मदद से आप अपनी वेबसाइट के लोडिंग स्पीड को ऑप्टिमाइज़ (optimize) कर सकते है यहां तक की बहुत जायदा तक बड़ा सकते है बस आपको कुछ प्लगइन स्तेमाल करने होंगे जैसे की AMP प्लगइन (plugin) जो आपके वेबसाइट की स्पीड को बहुत जायदा बड़ा देंगे इसलिए आप AMP प्लगइन सकते है और गूगल भी AMP प्लगइन स्तेमाल करने के लिए सलाह (recommend) देता है

वर्डप्रेस प्लगइन क्या है (What is WordPress plugin in hindi)

वर्डप्रेस प्लगइन एक तरह से सॉफ्टवेयर होते है जो किसी एक विशेष (special) काम के लिए डेवलप किये होते है और वर्डप्रेस एक कंटेनर (Container) के तरह काम करता है जो बिना प्लगइन के कुछ भी नहीं है अगर मुझे आपने वेबसाइट का SEO करना है तो उसके लिए मुझे अलग प्लगइन स्तेमाल करना होगा अगर मुझे वेबसाइट की स्पीड (Speed) बढ़ानी है तो मुझे अलग प्लगइन स्तेमाल करना होगा मतलब हर किसी काम के लिए अलग – अलग प्लगइन डेवलप किये हुआ है जो सिर्फ एक विशेष काम के लिए होते है
अगर हम सीधे तौर से देखे तो वर्डप्रेस एक बॉडी है और प्लगइन उसके पार्ट है जैसे की हाथ, मुँह, पैर आदि ऐसा बिल्कुल भी नहीं है आपकी वेबसाइट बिना प्लगइन के काम नहीं करेगी लेकिन अगर बात वेबसाइट के ऑप्टिमाइज़, स्पीड, और SEO की या किसी अन्य चीज की बात करे तो आपको प्लगइन स्तेमाल करने होंगे जो की कुछ फ्री (free) और कुछ प्लगइन पेड (paid) होते है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *